दो नाबालिगों के साथ गैंगरेप, 7 गिरफ्तार

दो नाबालिगों के साथ गैंगरेप, 7 गिरफ्तार

बालौदाबाजार. छत्तीसगढ़ के बलौदाबाजार में नाबालिगों  के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है। यह घटना तब सामने आई, जब घर से लापता हुईं इन बच्चियों ने पुलिस को अपने साथ हुई हैवानियत के बारे में बताया। सोमवार को पुलिस ने मामले में संलिप्त 7 आरोपियों को पकड़ा जिनमें एक नाबालिग भी शामिल है। ये नाबालिग लड़कियां अपने प्रेमी से मिलने गई हुईं थी। प्रेमी ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया और लड़कियों को बंधक बनाकर रखा गया था। 

बलौदाबाजार में हुए गैंगरेप के आरोपी युवक

  • बलौदाबाजार जिले के सरसीवा थाने की घटना, प्रेमी के दोस्तों ने ही दिया वारदात को अंजाम  
  • घर से लापता हुई बच्चियों की शिकायत पर जब पुलिस ने खोजा तो उजागर हुआ मामला 


5 दिसंबर से 7 दिसंबर के बीच हुई घटना
पुलिस के मुताबिक 13 व 15 साल की इन दो किशोरियां दो दिन तक पहले बंधक बनाकर रखा गया और फिर गैंगरेप किया गया। बच्चियों के परिजनों ने थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि 5 दिसंबर को घर से स्कूल जाने को लड़कियां निकली थीं, लेकिन नहीं लौटीं। परिजनों को शक था कि किसी के बहकावे में आकर किशारेयां भाग गई हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर बच्चियों की तलाश शुरू की। सात दिसंबर को गिधौरी बस स्टैण्ड से दोनों नाबालिग बच्चियों को बरामद किया गया। पूछताछ में बच्चियों ने जो बताया वह काफी हैरान करने वाला था। 


शादी करने वाले थे
लड़कियों ने बताया कि इन्हें आरोपी अनिल खुटे और एक नाबालिक आरोपी ने अपने प्रेम जाल में फंसाकर शादी करने का झांसा दिया। इन जोड़ों के बीच इस बात की भी प्लानिंग हो चुकी थी कि यह भगाकर दिल्ली जाएंगे और वहीं आगे की जिंदगी बिताएंगे। यही सोचकर दोनों प्रेमियों के पास पहुंचीं। आरोपी इन्हें अपने साथ गौराडीपा और पिपरडुला लेकर गए और दोस्तों के साथ गैंगरेप किया। इस मामले में पुलिस ने पुलिस ने नागेश्वर पटेल (उम्र 25), छबीलाल कैवर्त्य (उम्र 23), नंदलाल यादव (उम्र 28), दयाराम रात्रे (उम्र 32), प्रदीप कुमार अजय (उम्र 29), अनिल खुटे (19 साल), और एक अन्य नाबालिग को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है। सभी युवक सरसीवा के ही रहने वाले हैं।