×

Warning

JUser: :_load: Unable to load user with ID: 103

सांप से पैदा हुआ Coronavirus किस तरह हो रहा है जानलेवा

सांप से पैदा हुआ Coronavirus किस तरह हो रहा है जानलेवा

सांप से पैदा हुआ Coronavirus किस तरह हो रहा है जानलेवा

माना जा रहा है कि इस शोध से कोरोना वायरस का इलाज (Coronavirus Treatment) तलाशने में भी आसानी होगी. Chinese krait और Chinese cobra जैसे सांपों को इस वायरस का मुख्य स्रोत बताया जा रहा है. चीन में कोरोना वायरस या वुहान वायरस (Wuhan Virus) के फैलते संक्रमण के साथ शोधकर्ताओं ने इसका इलाज तलाशने की शुरुआत भी कर दी है. इस वायरस के बारे में हर दिन नई जानकारियां सामने आ रही हैं. सीएनएन न्यूज पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक सांप इस वायरस की उत्पत्ति का मुख्य स्रोत हो सकते हैं. मुख्य रूप से Chinese krait और Chinese cobra सांपों से इसकी उत्पत्ति मानी जा रही है. ये दोनों बेहद विषैले सांप हैं. इस रिसर्च को बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है और कयास लगाए जा रहे हैं कि इससे इलाज तलाशने में आसानी होगी. कुछ ही समय पहले World Health Organisation (WHO) ने बताया था कि यह वायरस जानवरों से संबंधित है. WHO ने कई जानवरों का नाम लिया था. इसके अलावा मांस और मछली बाजारों पर भी संदेह जाहिर किया गया था. इसी के बाद कोरोना वायरस का जेनेटिक डिटेल्स बेस्ड एनालिसिस किया गया है. पूरी दुनिया में चीन की रहस्यमय बीमारी के नाम से चर्चित कोरोना वायरस ने अब तेजी से पैर पसारने शुरू कर दिए हैं. चीन में इससे बीमार लोगों की संख्या हजारों में है लेकिन वो लगातार अपने देश में इससे मरने वाले और बीमार लोगों की संख्या छिपाने में लगा है. जानते हैं कि क्या हैं इस बीमारी के लक्षण. कोरोना वायरस की फैमिली लंबी चौड़ी है लेकिन इसमें छह वायरस ऐसे हैं जो काफी खतरनाक हैं. निमोनिया भी इसी से फैलता है. लेकिन जो वायरस चीन से पैदा हुआ और अब पूरी दुनिया को चपेट में ले रहा है उसे वैज्ञानिकों ने न्यू कोरोना वायरस या नोवेल कोरोना वायरस नाम दिया है. इसके नमूनों की सबसे पहले पहचान जर्मनी की एक अंतरराष्ट्रीय लैब ने की. इसी वायरस की फैमिली घातक सार्स बीमारी फैलाने की भी जिम्मेदार ठहराई जा चुकी है. चूंकि ये बीमारी भारत और एशियाई देशों में फैल चुकी है, साथ ही ये मानव से मानव में ट्रांसमीट हो रही है, लिहाजा इसके लक्षण जान लेने बहुत जरूरी हैं. इस बीमारी के शिकार लोगों में शुरुआत में सिरदर्द, नाक बहना, खांसी, गले में ख़राश, बुखार, अस्वस्थता का अहसास होना, छींक आना, अस्थमा का बिगड़ना, थकान महसूस करना आदि होता है. बाद में ये निमोनिया की तरह लगने लगती है. मूलतौर पर ये फेफड़ों पर हमला करती है और इसे नुकसान पहुंचाती है. जिसके बाद बचना मुश्किल हो जाता है.

कितना गंभीर है ये?

विज्ञापन कोरोना वायरस के कारण अमूमन संक्रमित लोगों में सर्दी-जुक़ाम के लक्षण नज़र आते हैं लेकिन धीरे-धीरे इसके गंभीर लक्षण दिखना शुरू होते हैं. तब तक ये वायरस फेफड़ों पर घातक हमला कर चुका होता है. उसके बाद मरीज की हालत गंभीर हो जाती है. उसे बचाना मुश्किल होता है. यूनिवर्सिटी ऑफ़ एडिनबर्ग के प्रोफ़ेसर मार्क वूलहाउस का कहना है, "जब हमने ये नया कोरोना वायरस देखा तो हमने जानने की कोशिश की कि इसका असर इतना ख़तरनाक क्यों है. यह आम सर्दी जैसे लक्षण दिखाने वाला नहीं है, जो कि चिंता की बात है."क्या ये बीमारी सार्स से मिलती जुलती है हां, ऐसा ही लगता है. नए वायरस के जेनेटिक कोड के विश्लेषण से पता चलता है कि ये मानवों को संक्रमित करने की क्षमता रखने वाले अन्य कोरोना वायरस की तुलना में 'सार्स' से काफी मिलता जुलता है. सार्स नाम के कोरोना वायरस को काफ़ी ख़तरनाक माना जाता है. सार्स के कारण चीन में साल 2002 में 8,098 लोग संक्रमित हुए थे. उनमें से 774 लोगों की मौत हो गई थी. उसी साल पूरी दुनिया में सार्स से करीब 3000 लोग मरे थे.

कितनी तेज़ी से फैल रहा है ये वायरस?

अब ये बहुत तेजी से दुनियाभर में फैल रहा है. शुरुआत में जब ये चीन में फैल रहा था तब इसकी घातकता का अंदाज नहीं लग पाया. चीन ने काफी हद तक इसे छिपाने की कोशिश की. इसके चलते चीन के पड़ोसी देशों की सरकारें देर से इसको लेकर अलर्ट हुईं. अब तक 25 लोगों की मौत इस वायरस की चपेट में आने से अब तक चीन में 25 लोगों की जान जा चुकी है. वहीं, भारतीय दूतावास के मुताबिक, वुहान में केरल के 20 छात्र समेत कुल 25 छात्र फंसे हुए हैं. केरल के सीएम पिनराई विजयन ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से पत्र लिखकर छात्रों को मदद मुहैया कराने की मांग की है. चीनी अधिकारियों ने गुरुवार शाम हुबेई प्रांत के 5 शहरों हुगांग, एझाओ, झिजियांग, क्विनजिआंग और वुहान में सार्वजनिक परिवहन को रोकने की घोषणा की. इस वायरस के खतरे को कम करने के लिए अब चीन मात्र 6 दिन में एक नए हॉस्पिटल को बनाने की योजना बना रहा है.

Image