छत्तीसगढ़: लॉकडाउन फेज-2 का 18वां दिन / ग्रीन जोन में अल्टरनेट खुल सकते हैं बाजार, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ शराब मिलेगी; आबकारी मंत्री बोले- शराब दुकानें खोलने को लेकर त्राहि मची

यह तस्वीर बिलासपुर के ग्राम पंचायत बरद्वार की है। लॉकडाउन के दौरान ग्रामीणों ने साफ-सफाई की जिम्मेदारी उठाई और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ गली-मोहल्लों नालियों और चौक चौराहे की सफाई की। जिससे संक्रमण और बीमारियों को दूर रखा जा सके।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बिलासपुर में बैठक के बाद निर्देश दिए

राज्य के एक लाख से ज्यादा श्रमिकों-पर्यटकों को लाएगी स्पेशल ट्रेन

रायपुर. केंद्र सरकार की ओर से तीसरे लॉकडाउन के दौरान बढ़ाई जा रही छूट को देखते हुए राज्य में भी तैयारी शुरू कर दी गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बिलासपुर में बैठक कर बाजारों को अल्टरनेट खोलने के निर्देश दिए हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि राज्य के ग्रीन जोन के लिए यही सिस्टम अपनाया जा सकता है। वहीं, शराब दुकानें भी सोमवार से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खुल सकती हैं। इसको लेकर राज्य सरकार रविवार को फैसला लेगी। बस्तर में इसके लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की नियुक्ति भी कर दी गई है। आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि भारत सरकार की गाइडलाइन उल्टी-पुल्टी आती है। प्रदेश में शराब दुकानें खोलने को लेकर त्राहि मची हुई है। जनता लगातार शराब दुकानें खोलने की मांग कर रही है। जल्द ही शराब दुकान खोली जाएंगी।

प्रदेश में अब 7 एक्टिव केस हैं। अब तक कुल 43 कोरोना संक्रमित मिले। इनमें कोरबा जिले से 28, सूरजपुर 6, रायपुर 6, दुर्ग, राजनांदगांव और बिलासपुर से एक-एक पॉजिटिव मिला।

अन्य राज्यों में फंसे लाेगों को लाने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त
देश के दूसरे राज्यों में फंसे छत्तीसगढ़ के एक लाख से ज्यादा मजदूरों, मरीजों, पर्यटकों को लाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने स्पेशल ट्रेन चलाने की हरी झंडी दे दी है। इससे पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को पत्र लिखकर विशेष ट्रेन चलाने का आग्रह किया था। केंद्र की अनुमति मिलते ही राज्य सरकार ने सभी प्रदेशों में फंसे मजदूरों को लाने के लिए अफसरों की टीम गठित कर दी है। 

कश्मीर में सबसे ज्यादा मजदूर फंसे 
सरकारी के आंकड़ों के मुताबिक, छत्तीसगढ़ के 99953 लाेग दूसरे राज्यों में फंसे हैं। इनमें सबसे ज्यादा 24090 मजदूर जम्मू-कश्मीर में फंसे हैं। जबकि महाराष्ट्र में 18704, यूपी में 13172, तेलंगाना में 12730, गुजरात में 8071, कर्नाटक में 3279, तमिलनाडु में 2963, मध्यप्रदेश में 2840, आंध्रप्रदेश में 2392, हरियाणा में 2008, दिल्ली में 2000, हिमांचल में 1800 मजदूर फंसे हैं।

इन अफसरों को इन राज्यों का जिम्मा

  • असम, यूपी, हरियाणा, दिल्ली, बिहार, बंगाल, उत्तर पूर्वी और केन्द्र शासित राज्य-सोनमणी बोरा
  • जम्मू-कश्मीर, पंजाब, उत्तराखंड, लद्दाख, हिमांचल, चंडीगढ़ -कमलप्रीत सिंह
  • महाराष्ट्र,कर्नाटक-सिद्दार्थ कोमल परदेशी
  • राजस्थान,गुजरात, मप्र-अविनाश चंपावत
  • आंध्र, ओडिशा, तेलंगाना, झारखंड -अंबलगन पी
  • तमिलनाडु, पुदुचेरी, केरला और अन्य राज्य-प्रसन्ना
  • मरीजों और पर्यटकों को भी लाया जाएगा, सरकार ने इसके लिए 6 नोडल अफसरों को जिम्मेदारी सौंपी।

कोटा से लाैटे प्रदेश के सभी 2252 छात्रों में कोरोना नहीं
राजस्थान के कोटा से लौटे प्रदेश के सभी 2252 छात्रों की कोराेना रिपोर्ट निगेटिव आई है। दरअसल, 204 मरीज और 6 मौतों की वजह से कोटा हाॅटस्पाॅट बना है। इसलिए पूरी सरकारी मशीनरी छात्रों को लेकर चिंतित थी। छात्रों को अलग-अलग सेंटरों में क्वारैंटाइन किया गया है। इनके सैंपल की जांच के बाद एम्स, मेकाहरा और जगदलपुर मेडिकल कॉलेज ने सबकी जांच रिपोर्ट जारी कर दी।

कोरोना अपडेट्स
रायपुर : अंबेडकर अस्पताल को 500 बिस्तरों वाले कोरोना के आइसोलेटेड अस्पताल में तब्दील करने की शुरूआत हो गई है। यहां के डीपी वार्ड में 40 बेड का पहला आइसोलेटेड वार्ड बन गया, जिसमें कोरोना के संक्रमित भर्ती किए जा सकेंगे और इलाज भी होगा। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने नए वार्ड का दौरा किया और कम दिनों में आइसोलेटेड वार्ड तैयार करने पर डॉक्टरों की सराहना की।

बिलासपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल निजी दौरे पर शक्रवार देर शाम को बिलासपुर पहुंचे। मुख्यमंत्री ने एक होटल में अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों और पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने लॉकडाउन में ढील देने और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने के लिए सुझाव और कार्ययोजना बनाने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि अल्टरनेट बाजार धीरे-धीरे खोले जाएं।

भिलाई : खैरागढ़ के सिविल अस्पताल में भर्ती हुए साढ़े तीन साल के बच्चे की मौत हो गई। बच्चे का सैंपल लेकर रायपुर एम्स भेजा गया है। बच्चे की तबीयत 10 दिनों से खराब थी। उसे बुखार और लगातार खांसी आ रही थी। लक्षणों को देखते हुए बीएमओ डॉ. विवेक बिसेन के निर्देश पर बच्चे का सैंपल लिया गया है। बीएमओ ने बताया कि अस्पताल को सैनिटाइज करा दिया गया है। वार्ड को भी एहतियातन बंद करा दिया गया।

रायगढ़ : कोई भी मजदूर या अन्य लोग जो दूसरे जिले या राज्य के हैं, उन्हें न रोका नहीं जाएगा। जिले के आश्रय स्थलों में भी बड़ी संख्या में दूसरे जिले, राज्य के मजदूर और अन्य लोग फंसे हुए हैं। कुछ लोगों को सरकार से आदेश के बाद उनके गृह जिलों तक पहुंचाया गया है। अभी भी बहुत से लोग फंसे हुए हैं, वे लोग अपने घर लौटना चाह रहे हैं, लेकिन उन्हें वापस भेजने के लिए व्यवस्था नहीं हो पाई है।