किसानों को धान बेचने में किसी प्रकार की परेशानी ना हो- श्री आर ० पी० मंडल(मुख्य सचिव)

किसानों को धान बेचने में किसी प्रकार की परेशानी ना हो- श्री आर ० पी० मंडल(मुख्य सचिव)

 मुख्य सचिव आर पी मंडल ने आज चित्रकोट में बस्तर संभाग के सभी कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक की बैठक ली

किसानों को धान बेचने में किसी प्रकार की परेशानी ना हो- श्री मंडल
संभागस्तरीय समीक्षा बैठक में मुख्य सचिव ने दिए निर्देश
मुख्य सचिव ने कहा कोचियों पर लगातार करें कार्यवाही‘

जगदलपुर, 15 दिसम्बर 2019/मुख्य सचिव श्री आर पी मंडल ने कहा है कि किसानों को धान बेचने में किसी भी प्रकार की परेषानी नही होनी चाहिये। इसके लिए सुव्यवस्थित रुप से धान खरीदी की कार्यवाही सुनिष्चित किया जाय। मुख्य सचिव श्री आरपी मंडल ने धान खरीदी की तैयारियों के संबंध में आज रविवार को चित्रकोट में संभाग के सभी कलेक्टर और पुलिस अधीक्षकों की बैठक ली।

श्री मंडल ने बैठक में कहा कि किसानों को धान बेचने में किसी प्रकार की असुविधा न हो, इसे भी ध्यान में रखकर कार्रवाई करें। उन्होंने अफसरों को दो टूक कहा कि हर हाल में धान कोचियों का नेटवर्क ध्वस्त होना चाहिए। उन्होंने पड़ोसी राज्यों से यहां अवैध रूप से धान लाये जाते हैं। कोचियों पर नकेल कसने के लिए सीमाओं पर चौकसी बढ़ाने और उन पर प्रतिबंधात्मक कार्यवाही करने के लिए लगातार अभियान चलाने के निर्देष दिए। श्री मंडल ने धान के अवैध भण्डारण पाये जाने पर मण्डी प्रबंधक के साथ ही सहकारिता विभाग के अधिकारियों पर भी एफआईआर दर्ज कराने के निर्देष दिए। श्री मण्डल ने निगरानी दलों की रोटेशन के अनुसार ड्यूटी लगाने के निर्देष दिए, ताकि कोचियों के साथ उनकी मिलीभगत न हो सके। उन्होंने कहा कि कोचियों के पास किसी भी हाल में सील लगा हुआ बारदाना न हो, उपार्जन केन्द्रों में हर दिन दो बार भौतिक सत्यापन करायें।

जरुर पढ़ें:-हलफनामाः ट्रांसजेंडर आखिर कहां जाएं ?
उन्होंने कहा कि धान खरीदी के दौरान किसानों द्वारा उपार्जन केन्द्रों में पहले से ही धान लाया जाता है, जिससे कोचियों को धान की मिलावट करने का मौका मिल जाता है। इसे रोकने के लिए किसानों को टोकन देने के बाद ही उपार्जन केन्द्रों में धान का भण्डारण करायें। धान उपार्जन केन्द्र और भण्डारण केन्द्रों में रखे गए धान की सुरक्षा और उठाव की कार्यवाही सुनिष्चित करने के संबंध में भी उन्होंने निर्देष दिया।
मुख्य सचिव ने कहा कि कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक आपस में समन्वय स्थापित कर अवैध धान परिवहन पर सख्ती से कार्रवाई करें। जब्ती की कार्रवाई होने पर बेहिचक एफआईआर भी दर्ज करायें। उन्होंने कहा कि वन विभाग के अधिकारी बिचैलियों पर कड़ी नजर रखने के लिए प्रमुख मार्गों के अलावा वनों से गुजरने वाले छोटे रास्तों में भी जांच नाका सक्रिय करें तथा बिचैलियों की जानकारी तत्काल पुलिस को दें। मुख्य सचिव श्री मंडल ने सुकमा और दंतेवाड़ा जिले में धान के अवैध परिवहन और भण्डारण पर लगातार की जा रही कार्यवाही के लिए प्रषंसा की।
बैठक में प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री राकेश चतुर्वेदी, खाद्य सचिव डाॅ. कमलप्रीत सिंह, संभाग के कमिश्नर अमृत कुमार खलखो, छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ के प्रबंध निदेषक श्री संजय शुक्ला, मार्कफेड की प्रबंध संचालक श्रीमती शम्मी आबिदी, पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी., बस्तर कलक्टर डॉ. अय्याज तम्बोली, सुकमा कलेक्टर श्री चंदन कुमार, कांकेर कलेक्टर श्री केएल चैहान, कोण्डागांव कलेक्टर श्री नीलकंठ टीकाम, दंतेवाड़ा कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा, बीजापुर कलेक्टर श्री केडी कुंजाम, नारायणपुर कलेक्टर श्री पीएस एल्मा सहित सभी जिलों के पुलिस अधीक्षक, वन मण्डलाधिकारी, जिला पंचायत के मुुख्य कार्यपालन अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें:-Citizenship amendment bill : छत्तीसगढ़ में नहीं लागू होने देंगे सीएबी- भूपेश बघेल